Kavita & Shayari

Kavita

एक सफ़र

एक सफ़र
English Font Kwaabon ko takdeer banata main chala, Patjhar ko sawan banata main chala. Mile tum jindagi ke rahon me jo hamse, Ab har safar ko rangeen banata main chala.
Hindi Font ख्वाबों को तकदीर बनाता मैं चला, पतझर को सावन बनाता मैं चला। मिले तुम जिंदगी के राहों में जो हमसे, अब हर सफ़र को रंगीन बनाता मैं चला।
Read More
हम हैं बेरोजगार
English Font Jazbaaton ke dukandar hain hum, Hai alfaz bahut, per kharidar hai kum Lagi hai lafzon ki kataren yahan, Na jaane kion, fir v berojgaar hai hum.   Hindi Font जज़्बातों के दुकानदार है हम, है अल्फाज़ बहुत, पर खरीदार है कम। लगी है लफ़्ज़ों की कतारें यहाँ, न जाने क्यों, फिर भी बेरोजगार है हम।
Read More
Kavita

मैं शराबी

मैं शराबी
Hindi Font मैं शराबी, पी जो शराब मयखाने में, दुनिया रंगीन लगने लगी अपने ही खयालो में। सपनो की दुनिया में खो जाता हूँ मैं, जब ये शराब आती है प्यालो में।   कहनी है जो बातें, बह जाती अब वो शराब के धारों में। पग पग ठोकर खाता, फिर चलकर पहुँचता किनारो में।   मैं शराबी, बनी शरा&#
Read More
दिल बना बंजारा
English Font Bekhabar ye dil hamara, bhatakta hai ab banjara sa. Hai abtak talash uski, ban gaya ab ye aawara sa.   Kya sikayat thi hamse, jo chhuta ab saath tumhara. Mil jaae kuch lafz shayar se, keh dun haal e dil ka sara   Dil bana musafir tere isq me, hai manzil ki talash use. Ho gai aankhe nam meri, bhid me ise chhupaun kese.     HindiFont बेखबर ये दिल हमारा, भटकता है अब बंजारा सा। है अबतक तलाश उसकी, बन गया अब ये आवारा सा।   क्या शिकायत थी हमसे, जो छूटा अब साथ तुम्हारा। मिल जाए कुछ लफ्ज़ शायर से, कह दूँ हाल-ए-दिल का सारा।   दिल बन
Read More
Kavita

एक सवेरा

एक सवेरा
English Font Aaj hua jo savera, man ka aangan hua roshan.
The jo kone andhere , hua use roshni ka darshan.   Jo khoya tha main sapno me, na tha hakikat ka pata.
Kese karun shukriya tera, jo dihaya tumne safar ka rasta.   Hui jo dopahar, Suraj ki laali ne li angdaai.
Tere aanchal ke chhaon me, dur hui meri ab tanhai.   Dekho chand nikal aaya, thama tune haath jo mera.
Kho gaya fir sapno me, kal fir se hoga ek naya savera.   Hindi Font आज हुआ जो सवेरा, मन का आँगन हुआ रोशन।
थे जो कोने अँधेरे, हुआ उसे रौशनी का दर्शन।   जो खोया था मैं सपनो में, ना था हकीकत का पता।
कैसे करूँ शुक्रिया तेरा, जो दिखाया तूने सफ&
Read More