Kavita & Shayari

Kavita

मैं और तुम

मैं और तुम
ये हसीन वादियां और मौसम सुहाना होता, हाथों में हाथ तेरा होता, तो मौसम और रंगीन होता।   बातें तेरी होती, यूँ नादानी मेरी होती, तेरा कुछ रूठना होता, मेरा फिर तुझे मनाना होता।   नादानी कुछ तेरी होती, पर शैतानी कुछ मेरी होती, यू कुछ सपने तू अपने बताती, तेरे सपनो में मैं खुद को पाता।
Read More
Kavita

Happy Makar Sankranti 2017

Happy Makar Sankranti 2017
नया साल लेकर आया है देखो नई संक्रांति, नए एहसास समेटे, लाया जीवन में फिर क्रांति।   नया उत्साह हुआ संचारित, सूर्योदय के जादू से, मन खिल उठा मीठे और तिल के खुशबू से।   मौसम बदला और छा गया इंद्रधुनष सा गगन, उड़ती पतंगें और कटती डोरें, देख मन हुआ मगन।
Read More
Kavita

Happy New Year 2017

Happy New Year 2017
जिंदगी का एक साल, साथ छोड़ गया, खट्टे मिट्ठे पलों का एहसास जोड़ गया। हैं ख्वाहिशें अधूरी, जो करनी है पूरी, इस उम्मीद ने फिर से 365 दिन जोड़ गया। :) #HappyNewYear2017
Read More
ये शाम अकेली सी..
ये शाम अकेली सी, ये रात है तन्हा, चाँद को ढूंढूं मैं, बेचैन है हर लम्हा।   बह रही हवा ख़ामोशी से, छू सकूँ जो इसे, आहट तेरी बातों का, ठहर सा गया समां।   खामोश से मौसम में, कोई साज नया गूंजा, हर याद सितारों सी, हर शय में तेरा मजमा।
Read More
Kavita

We Support Demonetisation

We Support Demonetisation
आज कुत्ते झुण्ड में करने एक शेर का शिकार चले हैं, पीछे उसके गधे और आगे इसके सरदार चले हैं।   जो बदल ना सका अबतक इस देश का हाल, वो बदलने अब देश की अच्छी सरकार चले हैं।   जिसने लूटी देश की खजाने की तिजोरी, अब वो बनने जनता के साहूकार चले हैं।   ना समझ मूरख तू हमको, हैं समझदार सब, देखो पग पग पहली दफा लोग ईमानदार चले हैं।
Read More