पाठशाला: विद्यां ददाति विनयं


हिंदी वर्ण (Hindi Alphabet)

भाषा की सबसे छोटी ध्वनि को वर्ण कहते हैं। ये बोली जाने वाली ध्वनि के लिखित चिह्न हैं। वर्ण उस मूल ध्वनि को कहते हैं, जिसके और खंड न किये जा सकें।

वर्ण:- भाषा की सबसे छोटी ध्वनि को वर्ण कहते हैं। ये बोली जाने वाली ध्वनि के लिखित चिह्न हैं। वर्ण उस मूल ध्वनि को कहते हैं, जिसके और खंड न किये जा सकें।

वर्णमाला:- वर्णों के व्यवस्थित समूह को वर्णमाला कहते हैं।

वर्ण के दो भेद होते हैं:-
1. स्वर (Vowel)
2. व्यंजन (Consonant)

स्वर:- जिन वर्णों का उच्चारण स्वतंत्र रूप से बिना किसी रुकावट के होता है, उन्हें स्वर कहते हैं। हिंदी वर्णमाला के प्रारम्भ में 11 स्वर वर्ण आते हैं। 11 स्वरों के बाद अयोगवाह ( अं और अः ) वर्णमाला में आते हैं। जैसे -

स्वर उच्चारण स्वर उच्चारण
a aa
i ee
u oo
e ai
o au
ri - -
अयोगवाह उच्चारण अयोगवाह उच्चारण
अं an अः ah

व्यंजन:- व्यंजन वे वर्ण हैं, जिनका उच्चारण स्वरों की सहायता से होता है। स्वर वर्ण के पश्चात पाँच वर्गों में विभाजित 25 व्यंजन वर्ण आते हैं। ये पाँच वर्ग हैं - कंठय, तालव्य, मूर्धन्य, दंत्य और ओष्ठ्य और उसके पश्चात चार अंतस्थ , चार ऊष्म वर्ण और चार संयुक्त व्यंजन आते हैं। जैसे -

क वर्ग
उच्चारण ka kha ga gha na
च वर्ग
उच्चारण cha chha ja jha nia
ट वर्ग
उच्चारण ta tha da dha na
त वर्ग
उच्चारण ta tha da dha na
प वर्ग
उच्चारण pa fa ba bha ma
अंतस्थ वर्ग
उच्चारण ya ra la va
ऊष्म वर्ग
उच्चारण sha shha sa ha
ऊष्म वर्ग क्ष त्र ज्ञ श्र
उच्चारण ksh tra gya shra